Malhotra Ayurvedic Group is a continuing effort of a multigenerational family, dedicated towards the health & well being of people. Started long ago by esteemed scholar Gopal Das Ji Malhotra & his son Buta Ram Ji Malhotra, their practice of Ayurvedic healing has helped countless generations move towards the path to well being. Now settled in Karnal, their family follows the same goals.
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 2.80 out of 5)
Loading...

About Us

मल्हौत्रा आयुर्वेदिक ग्रुप की शुरुआत कई वर्ष पहले श्री गोपाल दास जी मल्हौत्रा व उनके सुपुत्र हकीम बूटा राम जी मल्हौत्रा के द्वारा टाली गौराया की गुजरावाला तहसील हाबसाबाद पकिस्तान में हुई।

आज भी हकीम बूटा राम जी मल्हौत्रा के नाम से तरावड़ी, इन्द्री, करनाल, बबैन और कुरुक्षेत्र जैसे मुख्य शहरों में इन्ही नामो से खानदानी शाखाएं हैं।

मल्हौत्रा आयुर्वेदिक द्वारा तारा के सहयोग से अपनी दवाईयों के प्रचार के लिए विभिन्न उत्पादन बाज़ार में व अनेक राज्यों में उपलब्ध है। ये उत्पादन व परिवार समाज की तन मन से लोगो की निरोगी काया के लिए सेवार्थ हैं।

Our Products

Our Advice

किडनी स्टोन रोगियों के लिए उपयोगी सलाह

नहीं! कहने में कठिन परन्तु बहुमूल्य उन रोगियों के लिए जिन्हें पथरी है या पथरी बनने की सम्भावना है । अधिक आक्जलेट वाले खाद्य पदार्थ पथरी का कारण है।

हरी सब्ज़ियाँ

बैंगन, बीन्स, भिन्डी, शिमला मिर्च, टमाटर, खीरा, पालक

आक्जलेट की अधिक मात्र वाले आहार पथरी बनाते है, और अधिकतर रोगियों में आक्जलेट पथरी ही होती है।

फल

काले अंगूर, आमला, किवी, स्ट्रोबेरी, चीकू, फालसा

फालसा आदि पदार्थ अम्लीय होने के कारण, ऐसे अम्लीय आहार कम मात्रा में ले ।

अनाज

मैदा, औट मील, ब्रान

अगर मूत्र में आक्जलेट की मात्रा अधिक है तो आक्जलेट युक्त आहार कम मात्र में ले।

अन्य

कॉफ़ी, काजू, चाक्लेट, पोपी सीड

व्रक्क को उतेजित करने वाला आहार न ले, एवं प्युरिन की अधिक मात्र वाला आहार न लें।

उच्च प्युरिन वाले खाद्य पदार्थ

राजमा, मशरूम, फूल गोभी, मटर

उरिक एसिड/प्युरिन की अधिकता वाले आहार, मूत्र में इसकी मात्रा बढ़ाकर यूरिक एसिड/प्युरिन निर्मित पथरी को बना देता हैं।

हाँ! कहने में आसान, करने में आसान उनके लिए जो अपनी किडनी सुरक्षित एवं स्वस्थ चाहते है । पथरी बनने से रोकने वाले खाद्य पदार्थ । 

हरी सब्ज़ियाँ

गाजर, करेला, आलू, मूली, कद्दू

यह सब्जियाँ पथरी बनने से रोकती हैं, इनमे मैग्नीशियम, फोस्फोरस एंव अन्य गुणकारी घटक उपलब्ध हैं।

फल

केला, नींबू, खुमानी, बेर, सेब, बादाम

इन फलो में उपलब्ध विटामिन सी – बी, बीटा केराटिन शरीर से आक्जलेट को तोड़ता हैं।

अनाज

जौ, चिडवा, मूंग दाल, काला चना

मैग्नीशियम / पोटाशियम की अधिकता वाले आहार, व्रक्क के कार्यो को नियमित करते है ।

अन्य

नारियल पानी, नींबू पानी, एलोवेरा, जूस, मकई रेशम पानी, अनानास जूस, मठ्ठा

इन खाद्य पदार्थो में उपलब्ध जैविक घटक, टरट्रेट और सिटरेट पथरी बनने से रोकते हैं।

मज़बूती देने वाले खाद्य पदार्थ

पपीता, लहसून, क्रैनबेरी जूस, दही

विभिन्न लाभकारी माध्यमो से लिया गया संतुलित आहार, व्रक्क कार्य को नियमित करता हैं, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता हैं।

लाभकारी पदार्थो का विवरण

हजरुल यहूद पिष्टी

इनको बेलपत्र भी कहा जाता है। यह मूत्रल, पितशामक, वमन हर, अश्मरी व शूल हर मानी गई है । यह अश्मरी और शर्करा को तोड़कर मूत्र मार्ग से निकलने वाली मानी गई है । किसी भी प्रकार के रुके हुए मूत्र को खोलने हेतु यह उत्तम औषधि है । मुत्रव्रोध में इसे घिसकर पेडू का लेप भी किया जाता है । यह पथरी बहुत बड़ी नहीं हुई तो कुछ दिन निरंतर इसका सेवन करने से बिना शस्त्र क्रिया से ही मूत्रमार्ग द्वारा यह औषधि पथरी को गलाकर निकाल देती हैं । मुत्रावरोध, मूत्रकृछ और शर्करा आदि में मूत्र साफ़ आने के लिए इसका प्रयोग करना बहुत गुणकारी हैं।

गोक्षुर

यह मूत्रपिड को उत्तेजना देने वाला, वेदना नाशक और वल्दायक है। मूत्रेन्द्रिय की क्षलेशम त्वचा पर इसका प्रत्यक्ष असर होता है। सुजाक और बस्तिशोध में भी अच्छा काम करता हैं। यह मूत्रकृछ, व्र्क्कशोध, मूत्राशय की अश्मरी और मुत्रावरोध में लाभकारी है। गोखरू शीतल और मूत्राशय का शोधन करने वाला हैं।

पाषणभेद

यह मूत्रल, बस्ती शोधक और अश्मरी तोड़क है। यह मूत्रप्रणाली की इन्द्री के कार्यो को ठीक करता हैं अश्मरी के लिए अमोध औषधि है। यह मूत्र संस्थान के अवरोध में लाभकारी है। तथा अश्मरिजन्य मुत्रक्र्छ में भी लाभकारी है।

कुलसी

यह दाह, ज्वर तथा कृमि को नष्ट करती है। यह मूत्रल है। तथा मूत्राशय की पथरी को छोटे-छोटे टुकडो में तोड़कर दूर कर देती है। यह व्रक्क का रक्षण करती है। और उसको विषैले पदार्थो से बचाती है यह मूत्र संस्थान में होने वाले दाह को भी रोकती है।

श्वेत पप्रटी

इसके संयोजन में सूर्य क्षार, फिटकरी तथा नवक्षादर है।

यह एक अच्छा मूत्रल. स्वेदल और वतानुलोमक है। मूत्रकच्छ, मुत्रधात, मूत्र की उत्पति कम होना, पेट का दर्द, अफारा और अश्मरी में इसके उपयोग से शीघ्र ही उतम लाभ होता है। मूत्र का रुक जाना पित्त की गर्मी अथवा किसी भी कारण से मूत्र कम मात्र में आना अथवा मूत्र जलन के साथ होना ऐंसी अवस्था में रोगी को यह पप्रटी समान मात्रा में मिश्री मिलाकर उचित अनुपान के साथ सेवन करने से शीघ्र ही लाभ होता है। क्योंकि यह शीत वीर्य गुण युक्त है। तथा व्रक्क पर इसका प्रभाव विशेष रूप से होता है, इसलिए यह मूत्र सबंधी विकारों को दूर कर देती है और इससे पेशाब भी साफ़ आता है।

इसके प्रयोग से शरीर में प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाली (शारीरिक क्रियाओं से उत्पन्न होने वाले तथा बहार से शरीर में पहुंचे अनावश्यक मात्रा में) द्रव्य लवण, क्षार, अम्ल आदि पेशाब में घुलकर बाहर निकलते रहते है। मूत्र रुक जाने पर अथवा कम मात्र में उत्पन्न होने पर यह अनावश्यक द्रव्य शरीर में रुक कर अपना दूषित प्रभाव उत्पन्न करने लगते है। इसलिए इनके बाहर निकलते रहने के लिए मूत्र साफ़ होते रहना अति आवश्यक है। ऐसी अवस्था में पप्रटी के सेवन करने से मूत्र खुलकर और साफ़ आने लगता है।

यह मूत्रकच्छ, अश्मरी तथा मूत्राघात में लाभकारी है।

हिट टू स्टोन का असर

मूत्र संस्थान पर असर
  • मूत्र संस्थान को बल देती हैं !
  • मूत्र संस्थान के कार्य प्रणाली को ठीक करती हैं !
  • मूत्राशय का शोधन करती हैं और मूत्रमार्ग की अमलता को दूर करती है !
  • अनावश्यक लवण, क्षार, अम्ल आदि को दूर करती हैं !
  • व्रक्क शोध और बस्ती शोध को दूर करती हैं !

अश्मरी पर असर

  • अश्मरी को तोड़ देती हैं और गलाकर निकाल देती है !
  • अश्मरी की वजह से होने वाली दाह और दर्द को कम करती है !
  • अश्मरी के साथ होने वाले संक्रमण को दूर करती हैं !
  • अश्मरी की वजह से होने वाले रक्तस्त्राव और वामन को बंद कर देती हैं !
  • कैल्शियम, ओक्जेलेट, फोस्फेट और यूरिक एसिड से बनने वाली अश्मिरी को दूर करती है !

Contact Us

Contact Person: Dr. Sanjay Malhotra, Mukhil Malhotra
Phone:
Website: N/A
Address: Opposite Mahavir Dal Hospital, Kunjpura Road
Karnal, 132001 (Haryana) - INDIA
Follow Us:

Get Contact Details By SMS

Your Name (required)
Mobile Number (required)

(Don't add 0)
Verification Code (required)
captcha

Don't forget to mention that you found this listing on eKarnal.com

Send Your Query Online

Your Name (required)

Your Email (required)

Your Number (required)

(Only 10 Characters / Don't add 0)

Subject (Max 30 Characters)

Your Message

Enter Verification Code
captcha

Locate Us

Malhotra Ayurvedic Group Navigation Directions
Scan the Code via Your Phone.

Listing Details

Created: 2 years ago.
Last Updated: July 27, 2015
Listing View: 15939
Malhotra Ayurvedic Group 2.8 out of 5 based on 5 user ratings.
Category(s):
Business Directory Malhotra Ayurvedic Group
Powered by: eKarnal.com
Menu